डीबीएमएस क्या है? आइए सरल एवं सामान्य भाषा में समझे –

डीबीएमएस क्या है? आइए सरल एवं सामान्य भाषा में समझे – नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सभी? मैं एक बार फिर से आप सभी का स्वागत करता हूं हमारे इस बिल्कुल नए आर्टिकल पर।  दोस्तों आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से एक बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी देंगे । आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको डीबीएमएस क्या है और डीबीएमएस का प्रयोग क्यों किया जाता है ? विस्तार से समझाएंगे

दोस्तों आपने भी कई बार किसी ऑफिस में किसी विभाग में या किसी स्कूल में डीबीएमएस नाम जरूर सुना होगा, अगर आप भी डीबीएमएस के बारे में नहीं जानते हैं तो आज हम आपको डीबीएमएस क्या है विस्तार से बताएंगे । दोस्तों डीबीएमएस  इसका मतलब डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम होता है। जिसका इस्तेमाल बड़े-बड़े सरकारी कार्यालयों विभागों स्कूलों में डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है।

दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं आज से कुछ वर्षों पहले तक जितने भी विभाग थे वहां पर सारा काम हाथों के द्वारा होता था। जितने भी रिकॉर्ड मेंटेन किए जाते थे वह सब रजिस्टर पर किए जाते थे। जितनी एंट्री होती थी वह भी रजिस्टर पर ही होती थी, पर जब से टेक्नोलॉजी डेवलप हुई तब से लोग डाटा को स्टोर करने के लिए कंप्यूटर लैपटॉप हार्ड डिस्क इसका इस्तेमाल करने लगे हैं। 

अब आपको किसी भी विभाग में ऑफलाइन डाटा देखने को नहीं मिलेगा । सारा डाटा ऑनलाइन सेव किया जाता है। जब भी आप अपनी डिटेल किसी विभाग में निकालने के लिए बोलेंगे वह कंप्यूटर में बस आपका नाम डालेगा और आप की पूरी डिटेल खुलकर आ जाएगी।  

प्क्या आपने कभी सोचा है यह सारी डिटेल जो कंप्यूटर में पड़ी होती हैं अगर यह किसी गलती से डिलीट हो जाए या फॉर्मेट हो जाए तो क्या होगा ? दोस्तों यह समस्याएं पहले बहुत अधिक होती थी डाटा गलती से फॉर्मेट हो जाता था और पूरा रिकॉर्ड बर्बाद हो जाता था । 

पर जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी और डिवेलप हुई वैसे वैसे डीबीएमएस डेवलप किया गया जिसके अंतर्गत जितना भी डाटा है उसको इस अनुसार स्टोर किया जाता है कि वह कभी भी आवश्यकता पड़ने पर रिस्टोर किया जा सके।  आवश्यकता पड़ने पर एक साथ डिलीट किया जा सके या मैनेज किया जा सके। दोस्तों डाटा के समूह को ही डेटाबेस कहते हैं।

आइए हम आपको एक उदाहरण द्वारा समझाते हैं मान लीजिए आप किसी स्कूल में पढ़ते हैं अगर स्कूल में आपकी सारी एंट्री कंप्यूटर में है तो आप सिर्फ अपना नाम बताते होंगे और आप किस क्लास में हैं आपके पिताजी का क्या नाम है रोल नंबर मोबाइल नंबर सब कुछ खुल कर आ जाता होगा। दोस्तों यह सब कुछ डेटाबेस मैनेजमेंट के द्वारा ही होता है।  डेटाबेस मैनेजमेंट डाटा का एक ग्रुप होता है जिसमें किसी व्यक्ति की या किसी विभाग की संपूर्ण जानकारी रखी जाती है।

डीबीएमएस के अभिलक्षण –

डीबीएमएस को भी कई भागों में बांटा गया है जो निम्नलिखित है।

मल्टीपल व्यूज  डाटा 

दोस्तों यह डाटा मैनेजमेंट का वह प्रकार होता है जिसको हर कोई एक्सेस कर सकता है।  कुछ डाटा ऐसे होते हैं जिसकी जरूरत सभी को पड़ती है। उदाहरण के लिए मान लीजिए कि एक स्कूल का डाटाबेस । स्कूल के डेटाबेस को कोई भी एक्सेस कर सकता है फिर चाहे वह प्रिंसिपल हो या क्लास टीचर हो।  इस तरह का डेटाबेस जिसे हर कोई एक्सेस कर ले वह मल्टीपल व्यू डाटा कहलाता है।

मल्टीप्ल यूजर्स शेयरिंग

डेटाबेस के मल्टीप्ल यूजर्स शेयरिंग के अंतर्गत आप अपने डेटाबेस को किसी के पास भी भेज सकते हैं और वह उसको एक्सेस कर सकता है। मान लीजिए कि किसी विद्यालय के प्रिंसिपल शहर के बाहर है और स्कूल का जितना भी डाटा है वह उसको देखना चाहता है। इस सिस्टम के अंतर्गत विद्यालय का डाटा उसके पास से भेज दिया जाता है और वह उसको एक्सेस कर लेता है।

डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के नुकसान 

दोस्तों डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के जहां कुछ फायदे हैं तो वहां उसके कुछ नुकसान भी हैं। 

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम बहुत महंगा पड़ता है। यह बात बिल्कुल सच है कि इससे डाटा सुरक्षित हो जाता है पर इस तरह डाटा सुरक्षित करने के लिए आपको बहुत अधिक पैसे खर्च करने की आवश्यकता पड़ती है।

अगर दुर्भाग्यवश किसी कंपनी का डेटाबेस फेल हो जाता है तो उसे दोबारा सही करने में काफी समय बर्बाद होता है।

डेटाबेस को मैनेज करने के लिए आपके पास टेक्नोलॉजी नॉलेज होना आवश्यक है। अगर आपके पास नॉलेज नहीं है तो आप इसे मैनेज नहीं कर सकते हैं। 

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के प्रकार

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के अनेक प्रकार होते हैं जो इसके कार्य के आधार पर बांटे गए हैं।

  • relation database
  • Network database
  • hierarchical databaseT

डेटाबेस के कंपोनेंट्स-

डेटाबेस के अंदर कई सारे कंपोनेंट्स होते हैं।

  • Table
  • field
  • record
  • queries
  • forms
  • reports

डेटाबेस के कार्य

डेटाबेस का उपयोग अनेक उद्देश्यों की पूर्ति हेतु किया जाता है जैसे-

  • Data recovery
  • data backup 
  • delete data
  • update data
  • create data
  • manage data

 निष्कर्ष

दोस्तों आज की यह जानकारी यहीं पर समाप्त होती है। आज हमने आपको डेटाबेस के बारे में बताया तथा इसके कुछ प्रमुख कार्य समझाइए।  हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। इसी तरह की अन्य जानकारी पाने के लिए आप हमारे साथ बने रहिए। बहुत-बहुत धन्यवाद

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *