रेलवे में टेंडर कैसे लें ? पूरी जानकारी हिंदी में

रेलवे में टेंडर कैसे लें ? पूरी जानकारी हिंदी में – नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप सभी ? आप सभी का स्वागत है आपके अपने आर्टिकल पर जहां आज हम आपको रेलवे से टेंडर लेने के पूरे प्रोसेस के बारे में बताएंगे । दोस्तों अगर आप ठेकेदार हैं और आप रेलवे में टेंडर लेने के इच्छुक हैं तो आपके लिए हमारे यहां की बहुत उपयोगी साबित होने वाला है ।

रेलवे टेंडर क्या है ? 

दोस्तों यह बात तो आप सभी जानते होंगे कि रेलवे पूरे भारत के कोने-कोने तक फैली हुई है । रेलवे में काम करने के लिए इसी प्रकार के छोटे-छोटे टेंडर निकालती है जिन्हें लेकर आप अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।  

रेलवे एक बहुत बड़ा भाग है इसमें रोजगार के कई सारे अवसर भी हैं । रेलवे अपने काम के लिए टेक्नोलॉजी इत्यादि में निवेश करती है जहां पर आप भी भाग ले सकते हैं हम आपको आज रेलवे टेंडर से जुड़ी पूरी जानकारी देंगे।

रजिस्ट्रेशन

दोस्तों अगर आपको रेलवे का टेंडर लेना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे पहले आपको रजिस्ट्रेशन करना होगा । जिस भी विभाग में टेंडर पास किया जाता है उसी विभाग के एक ऑफिसियल वेबसाइट बनाई जाती है जहां आपको अपना रजिस्ट्रेशन करना होता है और वहां से आपके काम की जानकारी मांगी जाती है ।

आपको अपने संपूर्ण जानकारी देनी होती है साथ ही साथ आपको वहां पर यह भी बताना होगा कि आप यह काम कितने रुपए में पूरा कर सकते हैं। रेलवे का टेंडर लेने में रजिस्ट्रेशन एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया जिससे होकर आपको भी जाना होता है।

कौन से कैटेगरी में रजिस्ट्रेशन होगा

दोस्तों वैसे तो रेलवे में चार मुख्य के डिग्री होती हैं जिनमें ए बी सी और डी होती हैं आपको इन्हीं में अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा तभी आपको टेंडर मिलेगा।

रजिस्ट्रेशन प्रोसेस 

अगर आप रेलवे में टेंडर के लिए रजिस्ट्रेशन कराना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे पहले आपको क्लास डी में रजिस्ट्रेशन कराना होगा क्योंकि जब तक आप ग्रुप डी में रजिस्ट्रेशन कराएंगे तभी आपका क्लास सी और क्लास बी में रजिस्ट्रेशन होगा । 

इसके लिए सबसे पहले आपको अपना पैन कार्ड आधार कार्ड जीएसटी रजिस्ट्रेशन और कम से कम आपने पहले दो साल काम किए हो उनका एक्सपीरियंस भी जरूरी है और आपके पास उस ट्रेड का डिप्लोमा भी होना चाहिए तभी आप टेंडर्ड ले सकते हैं । रजिस्ट्रेशन कर आते समय आप से ₹15000 का एक एफडीआर मांगा जाएगा।

कितने सिक्योरिटी फीस जमा करनी होती है

रेलवे में टेंडर लेने के लिए आपको ₹5000 का एक बैंक ड्राफ्ट जमा करना होगा । यह एक नॉन रिफंडेबल पेमेंट होती है।  यह आपको वापस नहीं मिलेगी इस पेमेंट को देने का आशय यह है कि 3 साल तक आपका रजिस्ट्रेशन वैध रहेगा।

दोस्तों अगर आप का रजिस्ट्रेशन पहले से  डी क्लास में है और अब आप सी क्लास में registration कराना चाहते हैं तो आपको ₹7500 रजिस्ट्रेशन फीस देनी होगी।

दोस्तों अगर आप का रजिस्ट्रेशन सी क्लास में है और बी  क्लास में रजिस्ट्रशन कराना चाहते हैं तो आपको ₹10000 रजिस्ट्रेशन फीस देना होगा।

अगर आपका रजिस्ट्रेशन बी क्लास में है और आप ए क्लास में रजिस्ट्रेशन कराना चाहते हैं तो आपको ₹15000 फीस देनी होगी।

दोस्तों रजिस्ट्रेशन पूरा होने के बाद में रेलवे बोर्ड के द्वारा आपके डॉक्यूमेंट की जांच पड़ताल की जाएगी और अगर सब कुछ सही पाया जाता है तो आपको रजिस्ट्रेशन सक्सेस कर दिया जाएगा और आपको टेंडर मिल जाएगा।

निष्कर्ष

दोस्तों ये आपके लिए एक छोटी सी जानकारी थी जिसमें आज हमने आपको रेलवे में टेंडर कैसे लें इस विषय में बताया।  हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। इसी तरह की अन्य जानकारी पाने के लिए आप हमारे साथ बने रहिए बहुत-बहुत धन्यवाद

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.